ATM Full form |कैसे रखे आपने ATM कार्ड सुरक्षित| ATM किसने बनाया ?| कुछ रोचक बाते ATM की हिंदी में

आईये जानते उसका पूरा नाम जिसको अक्सर हम आप इस्तेमाल करते है ” Automated Teller Machine” आरे चौकिये नहीं यही है आपके पर्स में पड़े हुए ATM Full form.

अब क्या बस इत्तना जानना काफी है। उत्तर है नहीं। ऐसी बहोत सी बाते है ATM के बारे में जो आप शायद न जानते हो लेकिन चिंता मत करिये आज आपको वो सभी राज पता चल जायेंगे।

अब क्या ATM को बस ATM ही बोलै जाता है थो मैं कहु गए नहीं और आप भी अब से कहेंगे नहीं। ये बस भारत में ही ऐसा बोलै जाता है अलग अलग देशो में इसके अलग अलग नाम है।

जैसे की  Canada में ATM को ABM बोलते है Automatic Banking Machine कहते है।


ATM Full form कितने है ?

इसके अनेक Full form है वो कुछ इस प्रकार है।

  • Automated Teller Machine (ATM Full form)
  • AUTOMETIC TRANSMITION MACHINE
  • AUTO transaction MACHINE .
ATM Full form
ATM Full form

एटीएम का ATM Full form फुल फॉर्म हिंदी में (Full form of ATM in Hindi)

वो बी कुछ इंग्लिश की तरह ही है।

एटीएम =स्वचालित टेलर मशीन


अब जो आप Full form पढ़े गे वो भी ATM के ही है लेकिन आपके पर्स में पढ़े हुए ATM के नहीं।

  • Air traffic Management(ये एविएशन में काम आता है। )
  • Angkatan Tentera Malaysia (मलेशिया की सेना का नाम )
  • Asynchronous Transfer Mode (ये एक कम्युनिकेशन के टर्म में है )

ATM का इतिहास क्या है ?(ATM Full form)

  • सबसे पहला ATM बार्कलेज बैंक ब्राँच लंदन में 1967 में आया था।
  • वैसे जापान में भी ATM जैसा ही कुछ 1960s.की वक्त कुछ आया था
  • लेकिन अब आज का वक्त है ATM छोटे छोटे से द्वीप में मिल ही जायेगा।

History of ATM in India(ATM का भारतयीय इतिहास)

भारत का सबसे पहला ATM HSBC in Mumbai में 1987 लगाया गया था।

1997 में  Indian Banks’ Association (IBA) ने पहला शेयर्ड नेटवर्क “स्वधान” “Swadhan” लगाया था। .


ATM किसने बनाया ?

ATM का निर्माता माना जाता है इन तीनो को।

  • JOHN SHEPHERD-BARRON
  • DONAL WETZEL
  • Do Duc Cuong

एक बहोत रोचक बात जो आपको पता ही होना चाहिए।

नोट :JOHN SHEPHERD-BARRON जिनको ATM का अविष्कारक माना जाता है वो भारत में पैदा हुए थे। “ये आजादी से पहले पैदा हुए थे शिलॉन्ग असम में 1925 में जो ब्रिटिश प्रोविएन्स में आता था उस वक्त। आप यह पे पड़ सकते है


ATM के बारे को कुछ बाते जो आपको शायद न पता हो।

  • JOHN SHEPHERD-BARRON जिनको ATM का अविष्कारक माना जाता है वो भारत में पैदा हुए थे। “ये आजादी से पहले पैदा हुए थे शिलॉन्ग असम में 1925 में जो ब्रिटिश प्रोविएन्स में आता था उस वक्त। आप यह पे पड़ सकते है

  • ATM PIN :पहले एटीएम पिन 6 अंको का रखने वाले थे JOHN SHEPHERD-BARRON लेकिन वो उनकी पत्नी को 6 अंको का पिन याद करने में थोड़ी दिकत थी इसी लिए उन्होने 4 अंको का पिन बनाया।

  • दुनिया का पहला तैरने वाला ATM (Floating ATM):भारतीय स्टेट बैंक (केरल).

  • ATM को सबसे पहले जिसने इस्तेमाल किया :रेग वर्नी ये एक अभिनेता थे।

  • बिना अकाउंट के ATM:एक ऐसे भी देश है जहा बिना बैंक अकाउंट के भी एटीएम से पैसे निकल सकते है वो है Romania 

ATM होते कितने तरह के है ?

  • Green Label ATM:ये ATM किसानो के लिए होते है इसमे कृषि से सम्बंदित लेन देन होता है।
  • Pink Label ATM:ये ATM केवल महिलाओ के लिए होता है। महिलाओ की सुरक्षा को धयान में रखते हुए इस ATM का बनाया गया है।
  • Online ATM:ये ATM आपको केवल उतने ही पैसे निकलने देगा जितने आपके खाते में है।
  • Offline ATM :ये ATM आपको आपके बैंक आकउंट में पैसे न होने पार भी पैसे निकलने की छूट देता है लेकिन इसमे आपको बैंक को कुछ जुरमाना बाद में देना पड़ कसता है।
  • On Site ATM:बैंक के अंदर वाले ATM को इसी नाम से जाना जाता है।

आपने ATM कार्ड को सुरक्षित कैसे रखे ?

  • अपना ATM की डिटेल कभी शेयर नहीं करना है।
  • आपने ATM को आपने फ़ोन नंबर से ही लिंक करे।
  • ATM बूथ में अगर आपके साथ कोई और है तो उसे बहार जाने को कहे।
  • और कोई भी आपके पास कॉल आये आपसे डिटेल मांगे तो न दे।

FULL FORM तो बहोत जान लिए आईये अब जानते है की असल में ये ATM है क्या ?

ATM है क्या ?

जिस प्रकार आज कल हम सब चाहते की सबका टाइम बचे और काम भी जल्दी हो कुछ वैसे ही इस्तेमाल के लिए ATM का अविष्कार किया गया है।

ATM (Automated Teller Machine) एक इलेक्ट्रो मैकेनिकल मशीन जो की ऑटोमेटिक प्लेटफार्म का काम करता है।

और आपका काम बहोत आसान बना देता और टाइम भी बचाता है।

ये ATM धारक को कही भी पैसे निकले में मदद करता है।

ATM के मुख्य काम।

  • पैसे जमा करना
  • पैसे की निकासी करवाना
  • Transfer of cash
  • Accounts details
  • Mini statement
  • Regular payment of the bill
  • Account balance details
  • Recharge of prepaid mobile
  • PIN CODE चेंज करना

ATM काम कैसे करता है।

जैसे ही ATM धारक अपना कार्ड मशीन में डालता है या कही कही केवल टच करता है(आज कल टचिंग वाली मशीन भी आ गयी है अगर आपने उसे इस्तेमाल किया है तो कमेंट करके जरूर बताये )

तो फिर ATM में लगी हुई चिप (काले रंग की )वो लम्बी सी ATM में होती है। और जो छोटी चिप होती है यही दोनों आपका काम आसान बनाते है।

इन चिप में आपकी और आपके बैंक अकाउंट की साड़ी जानकारी होती है। जैसे ही आप ATM कार्ड मशीन में डालते है ये आपको आपके बैंक आकउंट से कनेक्ट कर देती है और फिर आप पैसे निकल लेते है फिर जो भी काम हो कर सकते है।


ATM के PARTS के बारे में जानते है।

एटीएम के पार्ट्स दो भागो में बाटे हुए है।

  • INPUT (इनपुट )
  • OUTPUT (आउटपुट )

और इन् दोनों भागो में अनेक पार्ट्स आते है आइये जानते है कौन कौन से है वो पार्ट्स और क्या काम है उनका।

OUTPUT (आउटपुट )

आउटपुट वो पार्ट्स होते है जिनको आप देख सकते है और छु(TOUCH ) भी सकते है

  • Display Screen :ये वो पार्ट है जिस्मे आपको सारी जानकारी दिखाई जाती है।
  • Cash Dispenser :ये एक भोत ही महत्वपूर्ण पार्ट होता है। ये आपको आपके पैसे देता है। इसमे लगे हुए (सेंसर्स )sensors आपके पैसे गिनते है और अप्पको देते है।
  • Receipt Printer :ये भी Cash Dispenser जैसा ही है बस इसका काम है आपको आपके निकले हुए पैसे ही रिसीप्ट प्रदान करना। और मिनिस्टटमेंट देना अदि।
  • Keypad:ये वो पार्ट है जिसकी मदद से आप अपने बैंक आकउंट की डिटेल ,पिन ,पासवर्ड और राशि की संख्या डालते है। और भी अनेक काम
  • Speaker:ये बहोत से एटीएम में होता है। जो आपको निर्देश देता है की आगे क्या करना है। या आप कैसे पैसे निकल या दाल सकते है और भी अन्य काम।

INPUT (इनपुट )

ये वो पार्ट्स होते है जिनको आप देख नई सकते और न ही TOUCH (छू )सकते है।

  • Card reader :ये ATM का सबसे एहम हिस्सा होता है वैसे थो सारे हिस्से ही एहम होते है। लेकिन ये ही आपको आपके बैंक आकउंट और ATM मशीन को कनेक्ट करता है। और बैंक को आपके बाजरे में जानकारी देता और वह की जानकारी ,जैसे बैंक डिटेल आप तक पहुँचता है।

निवेदन :अगर आपको कुछ नया सिखने को मिला है थो प्लीज इस पोस्ट की लिंक को आपने फेसबुक ,व्हाट्सअप

और अन्य सोशल मीडिया में शेयर करे इससे आप कुछ और लोगो को नयी बाते बता पाएंगे

मुझे और लिखने की प्रेरणा मिले गई दनयवाद।

ऐसे ही और जानकारी के लिए सब्सक्राइब कर सकते या फिर यहां क्लिक कर सकते है।


ATM के फायदे।

  • ATM सर्विसेज हमेसा उपलपद रहती है 24 ✕ 7.
  • ये आपका और बैंक स्टाफ दोनों काम और टाइम दोनों कम करता है।
  • आप इसे कहि भी ले जाते सकते कैर्री करने में आसान है।
  • ATM gives service without any error.

ATM के नुकसान।

वैसे ATM का कोई नुकसान नहीं है अगर आप इसे सावधानी के साथ इस्तेमाल करे नहीं तो एक नुकसान हो सकता है।

वो है फ्रॉड। सर्कार और बहोत सी एजेंसी इसे कम करने में काफी काम कर रही है।


What is the full form of ATM and PIN?

ATM Full form Automated Teller Machine (ATM),personal identification number (PIN),ATM Full form

What are the types of ATM?

there are mainly two type of ATM but they are distributed in various other some of them are .
Green Label ATM
Pink Label ATM
Online ATM
Offline ATM

Who invented ATM?

JOHN SHEPHERD-BARRON
DONAL WETZEL
DO DUC CUONG

अगर कुछ और आप हमें बताना चाहे तो कमेंट जरूर करे। ATM Full form ही कमेंट करे पता तो चले सबको।


1 thought on “ATM Full form |कैसे रखे आपने ATM कार्ड सुरक्षित| ATM किसने बनाया ?| कुछ रोचक बाते ATM की हिंदी में”

Leave a Comment